हमारे विषय में

भावी क्षमता वर्धन

एनटीपीसी ने दीर्घकालिक कॉर्पोरेट योजना के तहत वर्ष 2032 तक 130 गीगावाट कंपनी बनने की योजना बनाई है। वर्तमान कार्यान्वयन के तहत क्षमता वर्धन:
Future plants
क्र.सं. मध्य प्रदेश राज्य मेगावाट
एनटीपीसी
1. बाढ़-I बिहार 1980
2. सिंगरौली सीडब्ल्यू डिस्चार्ज (लघु हाइड्रो) उत्तर प्रदेश 8
3. तपोवन विष्णुगढ़ उत्तराखंड 520
4. कुडगी कर्नाटक 1600
5. सोलापुर महाराष्ट्र 1320
6. मौदा-II महाराष्ट्र 660
7. बॉन्गाईगांव असम 500
8. लता तपोवन उत्तराखंड 171
9. लारा छत्तीसगढ़ 1600
10. गाडरवारा मध्य प्रदेश 1600
11. ऊंचाहार उत्तर प्रदेश 500
12. दर्लीपली ओडिशा 1600
13. नॉर्थ करनपुरा झारखण्ड 1980
14. राममम-हाइड्रो  पश्चिम बंगाल 120
15. टांडा उत्तर प्रदेश 1320
16. खरगोन मध्य प्रदेश 1320
17. तेलंगाना तेलंगाना 1600
18. अनंतपुर सौर आंध्र प्रदेश 260
19. भादला-सौर राजस्थान 250
Total 18,909
जे वी एवं उप. कम्पनियाँं
1. मेजा उत्तर प्रदेश 1320
2. नबीनगर, बीआरबीसीएल बिहार 750
3. नबीनगर -बीएसईबी बिहार 1980
कुल 4,050
(एनटीपीसी + जे वी एवं उप. कम्पनियाँ) 22,959