सस्टेनेबल

कार्यनीति और नीतियां

  • कार्पोरेट सामाजिक दायित्‍वों के निर्वहन द्वारा दीर्घस्‍थायी विकास में योगदान करना।
  • प्रभावी राख उपयोग, परीधीय विकास और ऊर्जा संरक्षण पद्धतियों सहित पुनर्स्‍थापन और पुनर्वास, पर्यावरण सुरक्षा के क्षेत्रों में विद्युत क्षेत्र का नेतृत्‍व करना।
  • नीतिगत पक्षसमर्थन, (पालिसी एडवोकेसी) सुधारों में ग्राहकों की सहायता, प्रचालन में सर्वश्रेष्‍ठ पद्धतियों का प्रसार और विद्युत संयंत्रों के प्रबंधन आदि के माध्‍यम से भारतीय विद्युत क्षेत्र में विकास के प्रयासों को आगे बढ़ाना।

नीतियां

एनटीपीसी नवोन्‍मेषी, पर्यावरण के अनुकूल प्रौद्योगिकियों से बहुल ऊर्जा संसाधनों के इष्‍टतम उपयोग द्वारा प्रतिस्‍पर्द्धी मूल्‍यों पर दीर्घस्‍थायी रूप में विश्‍वसनीय विद्युत का उत्‍पादन करने और उपलब्‍ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है जिससे कि यह राष्‍ट्र के आर्थिक विकास, समाज के सामाजिक उत्‍थान और स्‍वस्‍थ वातावरण प्रदान करने में योगदान कर सके।

इस प्रक्रिया में एनटीपीसी निम्‍नलिखित कार्य करने का प्रयास करेगी :

  • भूमि, जल और वायु के संबंध में स्‍वच्‍छ और दीर्घस्‍थायी पर्यावरण की दिशा में योगदान।
  • कमी, पुनर्उपयोग और पुनर्चक्रण द्वारा संसाधनों का संरक्षण।
  • नवीकरणीय ऊर्जा के इष्‍टतम उपयोग के लिए उपायों की पहल और सहयोग, ऊर्जा दक्षता में वृद्धि, और ग्रीन हाउस गैसों के उत्‍सर्जन में कमी।
  • पारिस्‍थितकी तंत्र की सुरक्षा, संरक्षण और पुनर्बहाल की पद्धतियों के अनुसरण द्वारा जैवविविधता के उपायों में सहयोग।
  • सभी हितधारकों के लिए पारदर्शी, नैतिक और भेदभाव रहित होना।
  • संयंत्रों में और इसके आसपास लोगों के जीवन स्‍तर में विकास और सुधार में सहायता।
  • कर्मचारियों, पड़ोसी समुदायों और जनसामान्‍य के बीच दीर्घस्‍थायी विकास के बारे में जागरूकता का सृजन करना, जानकारी साझा करना और प्रशिक्षण कार्यकमों में सहयोग करना।